All times are UTC + 5:30 hours




Post new topic Reply to topic  [ 4 posts ] 
  Print view

एतबार हमारा करना - आदित्य.
Author Message
PostPosted: Mon Dec 21, 2009 11:30 pm 
Offline

Joined: Sat Oct 10, 2009 6:47 pm
Posts: 1
ता-उम्र बस आपके हैं एतबार हमारा करना,
ख़ुशी में चाहे भुला दो गम में पुकारा करना.

हम सर-ए-राह बिखर जायेंगे खुश्बू बनकर,
किस पहर गुज़रोगे महज़ इक इशारा करना.

लड़खड़ा गर जाऊं कभी ज़िन्दगी के मोड़ों पे,
हाथ मेरा तुम ही थामना और सहारा करना.

इन्साँ ही हूँ खता करना है शुमार फितरत में,
इनायत ये जारी रहे हम पे न किनारा करना.

कामयाब कर ही देगा आपका इश्क नादाँ को,
फिर आप भी एहल-ए-जुनूँ का नज़ारा करना.

स्याह रात भी तड़पाती है आपका नाम लेकर,
चिराग-ए-इश्क का इन रातों में शरारा करना.

बड़े अज़ाब से संभाल पाया हूँ खुद को टूटने से,
अब कभी सवाल-ए-फ़िराक़ ये न दोबारा करना.

'आदि' ना खोलेगा आपके हुज़ूर में ज़ुबाँ अपनी,
जवाब-ए-सवाल-ए-वस्ल आप भी गवारा करना.


---- आदित्य.


[ Ehl-e-Junoon : Crazy People (Lover) ]
[ Sharara : Flash/Brightness ]
[ Azaab : Difficulty ]
[ Sawal-e-Firaaq : Question of Separation ]
[ Wasl : Meeting With The Lover ]
[ Gawaara : Agreeable/Tolerable ]


Top
 Profile  
 

Re: एतबार हमारा करना - आदित्य.
PostPosted: Mon Dec 21, 2009 11:36 pm 
User avatar
Offline

Joined: Tue Dec 16, 2008 11:36 pm
Posts: 2493
ता-उम्र बस आपके हैं एतबार हमारा करना,
ख़ुशी में चाहे भुला दो गम में पुकारा करना.

sahi kaha gam me sath agar de sake to sabse acha hai

हम सर-ए-राह बिखर जायेंगे खुश्बू बनकर,
किस पहर गुज़रोगे महज़ इक इशारा करना.

mind blowing sher..kya baat kahi raah me khusboo ban kar bikharna raah sazaa dena

लड़खड़ा गर जाऊं कभी ज़िन्दगी के मोड़ों पे,
हाथ मेरा तुम ही थामना और सहारा करना.

hmmmmmmmmmmmmm ....bhaut khub

इन्साँ ही हूँ खता करना है शुमार फितरत में,
इनायत ये जारी रहे हम पे न किनारा करना.

insaan hi galtiya karte hai phir kinara ku

कामयाब कर ही देगा आपका इश्क नादाँ को,
फिर आप भी एहल-ए-जुनूँ का नज़ारा करना.

pyar me insaa wo bhi kar deta hai jo kar pana namumkin sa ho

स्याह रात भी तड़पाती है आपका नाम लेकर,
चिराग-ए-इश्क का इन रातों में शरारा करना.

bahut sunder baat kahi


बड़े अज़ाब से संभाल पाया हूँ खुद को टूटने से,
अब कभी सवाल-ए-फ़िराक़ ये न दोबारा करना.

hmmmmmmmmm tutne na dena khud ko bakai kabile tareef


'आदि' ना खोलेगा आपके हुज़ूर में ज़ुबाँ अपनी,
जवाब-ए-सवाल-ए-वस्ल आप भी गवारा करना.

kar hi lega wo bhi aisa..jo aap kahoge ek din



swagat ahi is love ke pal mein.....

bhaut pyari gazal se ru-b-ru huye ham apki kalam se ru-b-ru huye

_________________
kuch pal sanjoye hai yado se lekar
unko sahejaa hai kalam se kah kar


Top
 Profile  
 

Re: एतबार हमारा करना - आदित्य.
PostPosted: Tue Dec 22, 2009 11:10 am 
User avatar
Offline

Joined: Tue Dec 23, 2008 3:28 pm
Posts: 3098
Aditya wrote:
ता-उम्र बस आपके हैं एतबार हमारा करना,
ख़ुशी में चाहे भुला दो गम में पुकारा करना.

हम सर-ए-राह बिखर जायेंगे खुश्बू बनकर,
किस पहर गुज़रोगे महज़ इक इशारा करना.

लड़खड़ा गर जाऊं कभी ज़िन्दगी के मोड़ों पे,
हाथ मेरा तुम ही थामना और सहारा करना.

इन्साँ ही हूँ खता करना है शुमार फितरत में,
इनायत ये जारी रहे हम पे न किनारा करना.

कामयाब कर ही देगा आपका इश्क नादाँ को,
फिर आप भी एहल-ए-जुनूँ का नज़ारा करना.

स्याह रात भी तड़पाती है आपका नाम लेकर,
चिराग-ए-इश्क का इन रातों में शरारा करना.

बड़े अज़ाब से संभाल पाया हूँ खुद को टूटने से,
अब कभी सवाल-ए-फ़िराक़ ये न दोबारा करना.

'आदि' ना खोलेगा आपके हुज़ूर में ज़ुबाँ अपनी,
जवाब-ए-सवाल-ए-वस्ल आप भी गवारा करना.


---- आदित्य.


[ Ehl-e-Junoon : Crazy People (Lover) ]
[ Sharara : Flash/Brightness ]
[ Azaab : Difficulty ]
[ Sawal-e-Firaaq : Question of Separation ]
[ Wasl : Meeting With The Lover ]
[ Gawaara : Agreeable/Tolerable ]

Aditya ji,
Shukriya share karne ke liye

_________________
------------------------------------------------------------------
" Yadain "
" Batain Bhool Jati hain, Yadain yaad aati hain"


Top
 Profile  
 

Re: एतबार हमारा करना - आदित्य.
PostPosted: Tue Dec 22, 2009 10:05 pm 
Offline

Joined: Thu Feb 26, 2009 2:12 pm
Posts: 53
Location: noida
bhut acha likha hai apne

bhut khub


Top
 Profile  
 

Display posts from previous:  Sort by  
Post new topic Reply to topic  [ 4 posts ] 

All times are UTC + 5:30 hours


Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 1 guest


You cannot post new topics in this forum
You cannot reply to topics in this forum
You cannot edit your posts in this forum
You cannot delete your posts in this forum

Search for:
Jump to:  
cron

Powered by phpBB © 2000, 2002, 2005, 2007 phpBB Group
© 2008 - 2018 Mahaktepal.com