All times are UTC + 5:30 hours




Post new topic Reply to topic  [ 5 posts ] 
  Print view

रिक्तता
Author Message
PostPosted: Thu Mar 12, 2009 1:13 am 
Offline

Joined: Mon Feb 09, 2009 5:11 pm
Posts: 17
आत्मा से जहन तक का, रास्ता नसाज है
या भावनाओं का ही कुछ, पड़ गया आकाल है
दिल के सृजनात्मक भाग में
आज़कल हड़ताल है.
हाथ उठते हैं मगर
शब्द रचते ही नही
होंट फड़कते हैं मगर
बोल फूटते ही नही
पन्नो से अक्षर का रिश्ता
लग रहा दुश्वार है
दिल के सृजनात्मक भाग में
चल रही हड़ताल है
चल रहीं साँसे मगर
रूह कहीं लुप्त हो गई
धड़क रहा है दिल तो क्या
रवानगी सुस्त पड़ गई
इस हृदय में चल रहा
एक हाहाकार है
दिल के सृजनात्मक भाग में
जो चल रही हड़ताल है
बिन रंगो की तुलिका जैसे
खंडित मूरत की मुद्रा जैसे
बेनूर कोई अँखियाँ जैसे
बिन पानी की नादिया जैसे
सृजन बिन कोरा ये जीवन ,बेनमक का सा आहार है
दिल के सृजनात्मक भाग में ,गर जारी रही ये हड़ताल है……


Top
 Profile  
 

Re: रिक्तता
PostPosted: Thu Mar 12, 2009 5:12 pm 
User avatar
Offline

Joined: Tue Dec 23, 2008 3:28 pm
Posts: 3098
शिखा जी
बहुत सुन्दरता के साथ अपने मन भाव
लेखनी के माध्यम से उकेरे हैं,
बहुत सुन्दर

_________________
------------------------------------------------------------------
" Yadain "
" Batain Bhool Jati hain, Yadain yaad aati hain"


Top
 Profile  
 

Re: रिक्तता
PostPosted: Sat Mar 21, 2009 8:48 pm 
Offline

Joined: Sat Jan 03, 2009 9:24 pm
Posts: 47
shikha ji aapki is sunder aur bejod racana ke liye aapko bahoot-3 mubarakbad,khuda aapki kalam ko taqat bakshe...........o.k


Top
 Profile  
 

Re: रिक्तता
PostPosted: Wed Mar 25, 2009 10:37 pm 
User avatar
Offline

Joined: Mon Mar 23, 2009 2:44 pm
Posts: 21
सृजन बिन कोरा ये जीवन ,बेनमक का सा आहार है
दिल के सृजनात्मक भाग में ,गर जारी रही ये हड़ताल है…

antim 2 panktiyan, pura saar keh gayi
bahut khub

_________________
गर इश्क ना होता, तो कोई बात ही ना होती,
फ़िर कभी इस तन्हाई से मुलाक़ात ना होती.
तरुण "अतृप्त "


Top
 Profile  
 

Re: रिक्तता
PostPosted: Thu Mar 26, 2009 11:54 pm 
User avatar
Offline

Joined: Wed Dec 17, 2008 9:36 pm
Posts: 908
shikha ji..sabse ahle pranaam..

kiya likhti hai..aur kya shabdon ka prayog karti hia..kaayal ho gaye apki lekhni ke..ummeed hai yun hi apki rachnaye padhte rahenge..

बिन रंगो की तुलिका जैसे
खंडित मूरत की मुद्रा जैसे
बेनूर कोई अँखियाँ जैसे
बिन पानी की नादिया जैसे
सृजन बिन कोरा ये जीवन ,बेनमक का सा आहार है
दिल के सृजनात्मक भाग में ,गर जारी रही ये हड़ताल है……

take care..be happy..

_________________
2mrw nvr cums,2mrw nvr dies!


Top
 Profile  
 

Display posts from previous:  Sort by  
Post new topic Reply to topic  [ 5 posts ] 

All times are UTC + 5:30 hours


Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 1 guest


You cannot post new topics in this forum
You cannot reply to topics in this forum
You cannot edit your posts in this forum
You cannot delete your posts in this forum

Search for:
Jump to:  
cron

Powered by phpBB © 2000, 2002, 2005, 2007 phpBB Group
© 2008 - 2018 Mahaktepal.com